ALL political social sports other crime current religious administrative
आने वाले समय में जनता भी प्रतिनिधि के विकास कार्य के अनुसार देगी अपना वोट
August 28, 2020 • Sharwan kumar jha • other

हरिद्वार। कमल मिश्रा- वार्ड 58 राजविहार फेस थर्ड जगजीतपुर कॉलोनी में नाली एवम् रोड ना होने के कारण स्थानीय लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। करो ना और डेंगू जैसी इस भयानक बीमारी में लोगों का घरों से बाहर निकलना भी मुश्किल हो गया है । नाली एवं सड़क के संबंध में राज बिहार की जनता ने सुराज सेवा दल के नेतृत्व में  क्षेत्रीय विधायक, पार्षद,नगर आयुक्त एवं सहायक नगर आयुक्त को कई बार लिखित व मौखिक रूप से अवगत करा दिया गया है । लेकिन अभी तक इस ओर कोई संज्ञान नहीं लिया गया।            इस संबंध में कॉलोनीवासी राजकुमार सिंह, चंद्रप्रकाश जोशी, दलजीत,रविन्द्र राणा, अनिल ढोंढियाल,मुकेश सैनी,मनोज साह मनोज मिश्रा, ने बताया कि क्षेत्रीय पार्षद ने चुनाव जीतने के बाद अभी तक क्षेत्र की समस्याओं की ओर झांका तक नहीं। विधायक क्षेत्र में आए ओर क्षेत्रवासियों की समस्या भी सुनी लेकिन वह भी आश्वासन का लड्डू जनता के हाथ में थमा कर चले गए। राजविहार की जनता का कहना है कि क्षेत्र में समस्याओं का अंबार है लेकिन मुख्यतः नाली और सड़क मुख्य समस्या बनी हुई है लोगो का कहना है राजनीति के तहत कुछ लोग नहीं चाहते है कि क्षेत्र में कोई विकास कार्य हो लेकिन जनता को राजनीति से कुछ लेना देना नहीं है जनता को सिर्फ क्षेत्र में विकास चाहिए। जनता का कहना है जो प्रतिनिधि क्षेत्र में विकास कार्य करेगा क्षेत्र की जनता उसके साथ है। क्षेत्र की जनता का कहना है कि चुनाव का समय आते ही सारे नेता सक्रिय हो जाते हैं और झूठे वादे कर जनता का मन जीत कर वोट लेने  की कोशिश करते हैं लेकिन इस बार ऐसा नहीं होगा  जिस प्रकार भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत का कहना है की टिकट उसी को मिलेगा जिसका कार्य विवरण का रिपोर्ट कार्ड सही होगा अब इसी तर्ज पर जनता भी अपना प्रतिनिधि उसी को चुनेगी जिस प्रतिनिधि ने क्षेत्र में विकास किया है। क्षेत्र में नाली व सड़क ना होने का दर्द चंद्रप्रकाश जोशी ने कुछ इस तरह बयां किया।  बच्चो ने कहा पापा साइकिल कैसे चलना सीखू रोड तो नही है।। फिर बच्चे ने पूछा पापा बहार क्यों नही जाने देते ।। तो पापा बोलें बहार मछरों का खतरा है।। बच्चों ने कहा और कॉलोनी इनती अच्छी क्यों ।। पापा की आँखों से आंसू आगये।। अपनी लाचारी को देख कर ।। मन मे आदमी ने सोचा अगर मैं आर्थिक रूप से कमजोर ना होता तो अपनी बेटी के लिए एक रोड बना देता।।