अखाड़ा परिषद अध्यक्ष ने मांग, सभी संत महापुरूषो को सुरक्षा प्रदान की जाये
February 29, 2020 • Sharwan kumar jha

हरिद्वार। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहन्त नरेन्द्र गिरि महाराज ने कहा है कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के साथ हुयी अखाड़ा परिषद की बैठक मे संत महापुरूषो व सभी 13 अखाड़ो की सुरक्षा के लिये पुलिस बल की मांग की गयी थी। जिसके बाद मुख्यमंत्री ने अध्यक्ष व महामंत्री को वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान किये जाने का आदेश दिया था। लेकिन अभी तक अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्रीमहंत हरिगिरि महाराज व निरंजनी अखाड़े के सचिव श्रीमहंत रविन्द्रपुरी महाराज को सुरक्षा प्रदान नही की गयी है। उन्हाने प्रशासन से मांग करते हुये कहा कि तत्काल प्रभाव से सभी महापुरूषो को सुरक्षा प्रदान की जाये। इस बारे में आईजी अजय रौतेला से भी वार्ता की। उन्होने कहा कि कुम्भ मेला कार्यो मे तेजी लायी जाये और समय से पूर्व सभी कार्य पूर्ण किये जाये। उन्हाने कहा कि भूपतवाला एवं सप्तसरोवर क्षेत्र की उपेक्षा मेला प्रशासन द्वारा की जा रही है। अभी तक कोई भी अधिकारी वहां की व्यवस्था का जायजा लेने नही पहुंचे है। जिससे संत समाज मे रोष है। उन्होने कि मेला क्षेत्र मे अतिक्रमण एक बड़ी समस्या है। उसे भी अभी तक चिन्हित नही किया गया है। सम्पूर्ण मेला क्षेत्र से अतिक्रमण हटाकर मेला मार्गो को दुरूस्त किया जाये। ताकि मेले मे निकलने वाली अखाड़ों की पेशवाई मे किसी भी प्रकार की असुविधा ना हो। श्रीमहंत नरेन्द्र गिरि महाराज ने कहां कि नागरिकता कानून को लेकर हिंसा फैलाना एक सुनयोजित प्लान है। हिंसा फैलाने वाले लोगो के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही करनी चाहिए। उन्होंने दिल्ली सरकार से हिंसा में मारे गए लोगों के परिजनों को पर्याप्त मुआवजा दिए जाने की मांग भी की।