भक्त वही होता है जो शत्रु और मित्र में समभाव रखता है
March 13, 2020 • Sharwan kumar jha

हरिद्वार। बाबा बंशी वाले महाराज ने कहा है कि संसार के समस्त प्राणियों में परमात्मा का वास है और ईश्वर भक्त वही होता है। जिसका चित्त शत्रु और मित्र में समभाव रखता है। जो सदैव सत्य का पालन करता है और कभी व्यर्थ का गर्व नहीं करता। पंतदीप मैदान में आयोजित श्री विष्णु महापुराण कथा के दूसरे दिन श्रद्धालु भक्तों को संबोधित करते हुए बाबा बंशी वाले महाराज ने कहा कि समस्त योनियों में मानव जीवन सर्वश्रेष्ठ है। जो मनुष्य माया मोह के जाल से मुक्त होकर कर्तव्य का पालन करता है। उसे ही इस जीवन का लाभ प्राप्त होता है। कथा व्यास म.म.स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी महाराज ने कहा कि जो लोग इस कर्मभूमि में जन्म लेकर समस्त आकांक्षाओं से मुक्त होकर अपने कर्म परमात्मा स्वरूप श्री हरि विष्णु को अर्पण कर देते हैं। वे पाप रहित होकर निर्मल हृदय से उस अनंत परमात्म शक्ति में लीन हो जाते हैं। आशीर्वाद के फलस्वरूप जब पाराशर ऋषि को विष्णु पुराण का स्मरण हो गया। तब पाराशर मुनि ने मैत्रेय ऋषि को संपूर्ण विष्णु पुराण सुनायी। वर्तमान युग में अठारह पुराणों में श्रेष्ठ विष्णु महापुराण के श्रवण मात्र से ही व्यक्ति का कल्याण हो जाता है। मानवीय हित की दृष्टि से विष्णु पुराण अत्यन्त महत्वपूर्ण है। पुराणों से प्राप्त ज्ञान के माध्यम से ही व्यक्ति परमतत्व की प्राप्ति कर सकता है। बाबा बलराम दास हठयोगी महाराज ने श्रद्धालु भक्तों को आशीर्वचन प्रदान करते हुए कहा कि विष्णु महापुराण का श्रवण सदैव कल्याणकारी होता है। कथा में पधारे सभी संत महापुरूषों को मदन मोहन शर्मा, विकास शर्मा, पवन त्यागी ने फूलमाला पहनाकर व शाॅल ओढ़ाकर सम्मानित किया। स्वामी राधाकांताचार्य, स्वामी अनुरागी महाराज, आचार्य पवनदत्त मिश्र, स्वामी ऋषिश्वरानन्द, महंत दुर्गादास, महंत विष्णुदास, मंहत प्रेमदास, महंत रघुवीर दास आदि संत महापुरूषों ने भी श्रद्धालुओं को संबोधित किया। इस दौरान शतमुख कोटि होमात्मक विष्णु महायज्ञ में देश के विभिन्न राज्यों से आए सैकड़ों श्रद्धालुओं ने यज्ञ कुण्ड में आहुति समर्पित कर विश्व कल्याण की कामना की। इस अवसर पर आरएसएस के प्रदेश प्रभारी पदमसिंह, आचार्य दिवाकर, पुनीत गुप्ता, स्वामी अंकुश शुक्ला, विवेकानंद ब्रह्मचारी, बालमुकुंदानंद ब्रह्मचारी, शकुन्तला देवी गोयल, सतीश गोयल, भूषण गोयल, निधि गोयल, भावना गोयल आदि उपस्थित रहे।