ALL political social sports other crime current religious administrative
बुलन्दशहर में दो साधुओं की हत्या पर संतो ने जताया दुःख,योगी सरकार सच्चाई सामने लायें
April 28, 2020 • Sharwan kumar jha • other

हरिद्वार। यूपी के बुलंदशहर में सोमवार की देर रात दो साधुओं की हत्या किए जाने की साधु संतों की सर्वोच्च संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने कड़े शब्दों में निन्दा की है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेन्द्र गिरी महाराज ने साधुओं की हत्या पर दुख व्यक्त करते हुए योगी सरकार से इस जघन्य हत्याकांड के जल्द खुलासे और दोषियों को सलाखों के पीछे भेजे जाने की मांग की है। श्रीमहंत नरेन्द्र गिरी महाराज ने कहा है कि चिमटा चोरी के आरोप में साधुओं की पीट-पीटकर हत्या किए जाने की घटना निंदनीय है। उन्होंने कहा है कि पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया है और पूछताछ कर रही है। लेकिन घटना की पूरी सच्चाई लोगों के सामने आनी चाहिए। ज्ञात रहे कि बुलन्दशहर के पगोना गांव स्थित शिव मंदिर पर पिछले करीब 10 वर्षों से 55 वर्षीय साधु जगनदास और 35 वर्षीय साधु सेवादास रहते थे। दोनों साधु मंदिर में रहकर पूजा-अर्चना में लीन रहते थे। लेकिन सोमवार की देर रात मंदिर परिसर में ही दोनों साधुओं की लाठी डंडे से पीटकर नृशंस हत्या कर दी गई। मंगलवार सुबह जब ग्रामीण मंदिर में पहुंचे तो उन्हें साधुओं के खून से लथपथ शव पड़े मिले। अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्रीमहंत हरिगिरी महाराज ने कहा कि देश में लगातार साधु संतों की हत्या कर सनातन धर्म पर कुठाराघात किया जा रहा है। जिसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। मां मंशा देवी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष श्रीमहंत रविन्द्रपुरी महाराज व निरंजनी अखाड़े के सचिव श्रीमहंत रामरतन गिरी महाराज ने कहा कि सनातन धर्म के पुरोधाओं की जघन्य हत्या ऋषि मुनियों की धरती पर लगातार हो रही है। सरकार को संत महापुरूषों की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए और अपराधियों को कड़ी से कड़ी सजा देनी चाहिए। ताकि ऐसी घटनाओं की पुनर्रावृति ना हो सके। संतों की हत्या करने वालों में कोठारी महंत जसविन्दर सिंह, श्रीमहंत ज्ञानदेव सिंह, महंत दामोदरदास, मुखिया महंत भगतराम, म.म.स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी, स्वामी कपिलमुनि, म.म.स्वामी हरिचेतनानंद, जयराम पीठाधीश्वर स्वामी ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी, स्वामी प्रबोधानंद गिरी, महंत निर्मल दास, महंत रोहित गिरी, श्रीमहंत प्रेमगिरी, श्रीमहंत विद्यानंद सरस्वती, महंत दर्शनदास, महंत रूपेंद्र प्रकाश सहित सभी संत महापुरूषों ने घटना की घोर निंदा करते हुए दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की।