ALL political social sports other crime current religious administrative
डेंगू तथा कोरोना से बचाव मे काढा है प्रभावी घरेलू उपचार
May 16, 2020 • Sharwan kumar jha • other

हरिद्वार। विश्वभर मे कोरोना की प्रलयकारी लीला जिसने लाखों जीवन समाप्त कर दिये हो उसी दौर में यदि डेंगू के समय की स्थिति पर ध्यान दिया जाये तो दोनो किसी से कम नही है। समाजसेविका रेखा नेगी ने कहा है कि ये दोनो महामारी सफाई तथा प्रकृति के साथ रहने का संदेश देती है। मनुष्य को अपनी जीवन शैली बदलनी ही पडेगी अन्यथा आने वाले समय मे इस प्रकार की न जाने कितनी महामारियों से जीवन को दो-चार होना पडेगा। आज का चिकित्सा सिस्टम पूरी तरह से इन महामारियो से बचाव के साधन जुटाने मे लगा है। डेंगू के प्रकोप से बचने के लिए तो हमे प्रकृति ने अपना संरक्षण प्रदान करते हुए उपचार उपलब्ध करा दिया है। परन्तु कोविड-19 से बचाव के अभी कयास लगाए जा रहे है। लक्षणों के आधार पर देखा जाये तो दोनो मे समानता अधिक है, सिर दर्द, बुखार, गला खराब होना, मांसपेशियों मे दर्द आदि गुणों के द्वारा इन दोनो की पहचान होती है। औपचारिक रूप से कोरोना के प्रभाव से बचने के लिए वैकल्पिक चिकित्सा व्यवस्था तथा घरेलू प्रयोग के सामान तुलसी के पत्ते, काली मिर्च, अदरक, अजवायन, सौंफ का काढ़ा इसके आरम्भिक प्रभाव को कम करने मे लाभदायक सिद्ध हो रहा है। वही डेंगू के प्रकोप मे पपीते के पत्ते तथा गिलोय से बना काढ़ा असरदार होता है। इन दोनो के संक्रमण के प्रभाव अलग अलग है।