ALL political social sports other crime current religious administrative
गृह जनपद भेजे जाने की मांग को लेकर प्रशासन के खिलाफ किया प्रदर्शन
May 12, 2020 • Sharwan kumar jha • administrative

हरिद्वार। गृह जनपद भेजे जाने की मांग को लेकर चमोली, अल्मोड़ा, बागेश्वर, चंपावत जिले के लोगों ने मंगलवार को भल्ला इंटर कॉलेज स्टेडियम के बाहर प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन किया। कहा कि वह दस दिन से प्रशासन से घर भेजने की मांग कर रहे हैं, लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। उत्तर प्रदेश के लोगों ने भी ऐसे ही आरोप प्रशासन पर लगाए। भल्ला इंटर कॉलेज के मैदान पर प्रवासियों को लाने और ले जाने के लिए मेडिकल परीक्षण किया जा रहा है। मैदान से ही आवागमन होने पर हरिद्वार में फंसे लोग अपने घरों को जाने के लिए यहां पहुंच जाते हैं। प्रशासन भी बसों की उपलब्धता के अनुसार भेज देता है। लेकिन, मंगलवार को चमोली, बागेश्वर आदि जिलों के लोगों ने प्रशासन पर उन्हें घर भेजने के लिए कोई व्यवस्था नहीं करने का आरोप लगाते हुए प्रदर्शन किया। अल्मोड़ा, चंपावत, चमोली, बागेश्वर के चंद्रशेखर, हिमांशु जोशी, प्रमोद, विनोद, महेंद्र प्रसाद का कहना था कि वह हरिद्वार में होटल, ढाबों और फैक्ट्रियों में काम करते थे, लेकिन कोरोना वायरस के फैलते संक्रमण को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन के चलते सब काम बंद हैं, जिससे वह यहां फंस गए थे। अब वह दस दिन से घर वापस भेजने की मांग कर रहे हैं। आरोप लगाया कि उनके ठहरने के लिए कोई व्यवस्था नहीं की जा रही है। जिससे वह दो दिन से भल्ला इंटर कॉलेज के मैदान के बाहर ही पड़े हुए हैं। ऐसे ही आरोप उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर, लखीमपुर खीरी, बरेली, बदायूं आदि के लोगों ने लगाए। आरोप लगाया कि वह पिछले एक सप्ताह से रोजाना यहां आते हैं, लेकिन उन्हें घर भेजने का कोई प्रबंध नहीं किया जाता है। जिससे उन्हें बहुत परेशानी होती है। उधर, नायब तहसीलदार ललित मोहन पोखरियाल का कहना है कि प्रवासियों को लगातार भेजा जा रहा है। जैसे ही जहां-जहां की बसों की व्यवस्था हो जाती है, वैसे ही उन्हें भेज दिया जाता है। इन्हें भी जल्द ही भेज दिया जाएगा।