झूठे मुकदमों में फंसाकर किया जा रहा कार्यकत्र्ताओं का उत्पीड़न
March 7, 2020 • Sharwan kumar jha

हरिद्वार। भीम आर्मी एकता मिशन के कार्यकर्ताओं ने देश भर में संगठन के कार्यकर्ताओं को झूठे मुकद्मों में फंसाकर उत्पीड़न किए जाने का आरोप लगाया है। तहसीलदार को ज्ञापन देने पहुंचे कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए विधानसभा क्षेत्र उपाध्यक्ष राजा अली ने कहा कि देश भर में भीम आर्मी की बढ़ती लोकप्रियता से राजनीतिक दल घबरा गए हैं। सत्ता में बैठे दलों के इशारे पर शासन प्रशासन भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं का उत्पीड़न कर रहा है। संगठन के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को झूठे मुकदमों में फंसाकर जेल में डाला जा रहा है। उ.प्र. के सहारनपुर जनपद में भीम आर्मी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मंजीत सिंह नौटियाल, महासचिव कमल वालिया व शिवम खेवड़िया पर गंभीर धाराओं में मुकद्मे दर्ज कर जेल में डाल दिया गया है। तीनों पदाधिकारी चार महीने से जेल में बंद है। उन्हें तुरंत रिहा किया जाए वरना बड़े स्तर पर आंदोलन किया जाएगा। अथर अंसारी ने कहा कि देश के गरीब, दलित, पिछ़ड़े, आदिवासियों व अल्पसंख्यकों के बीच बढ़ती भीम आर्मी की लोकप्रियता से अन्य राजनीतिक दल में भारी बैचेनी है। बढ़ती महंगाई व बेरोजगारी के इस दौर में गरीब आदमी के लिए दो वक्त की रोटी जुटाना मुश्किल हो रहा है। आर्थिक स्थिति खराब होती जा रही है। बैंकों के संकट लगातार बढ़ रहे हैं। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं को उत्पीड़न बंद नहीं किया गया तो सड़कों पर उतरकर आंदोलन किया जाएगा। इस दौरान तहसीलदार के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन प्रेषित किया गया। ज्ञापन देने वालों में गुलबहार कुरैशी, गुड्डू खान, समीर खान, अब्दुल रहमान अंसारी, ताहिर अंसारी, आदिल अंसारी, फैसल अंसारी, राव सुहैल, शब्बू खान, अनस अंसारी, खुशहाल अंसारी, शाहरूख ख्वाजा, नावेद मंसूरी, फरीद मंसूरी, राव सोनू, सोनू अंसारी, सावेज आदि शामिल रहे।