ALL political social sports other crime current religious administrative
महापुरूषों ने हमेशा समाज को नई दिशा प्रदान की है-महंत निर्मल दास
September 14, 2020 • Sharwan kumar jha • religious

हरिद्वार। संतों का जीवन निर्मल जल के समान होता है। महापुरूषों ने सदैव समाज को नई दिशा प्रदान की है। उक्त उद्गार भूपतवाला स्थित श्री विष्णु धाम आश्रम में महंत निर्मल दास महाराज ने ब्रह्मलीन म.म.स्वामी विष्णुदेव महाराज की पुण्य तिथी पर श्रद्धालु भक्तों को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि संपूर्ण मानवता को अंक, अक्षर, औषधी और आत्मा की नित्यता के साथ साथ प्रकृति परमात्मा के संबंधों का बोध प्रदान करने वाली कालजयी सनातन संस्कृति के उपासक ब्रह्मलीन म.म.स्वामी विष्णुदेव महाराज एक दिव्य महापुरूष थे। जिन्होंने अपना संपूर्ण जीवन मानवता के लिए समर्पित किया और देवभूमि से अनेकों सेवा प्रकल्प चलाकर राष्ट्र कल्याण में अपना अहम योगदान प्रदान किया। ऐसे महापुरूषों को संत समाज नमन करता है। महंत निर्मलदास महाराज ने कहा कि प्रेम, करूणा और उच्चतम जीवन मूल्यों की प्रेरणा देने वाले अलभ्य को सुलभ और असंभव को संभव बनाने की योग युक्ति के प्रदाता ब्रह्मलीन स्वामी विष्णुदेव महाराज संत समाज के प्रेरणा स्रोत थे। जिनके बताए मार्ग का अनुसरण कर संत समाज भारतीय संस्कृति व सनातन धर्म की पताका को विश्व भर में फहरा रहा है। स्वामी बलराम मुनि महाराज ने कहा कि ब्रह्मलीन स्वामी विष्णुदेव महाराज एक महान संत थे। इस अवसर पर महंत प्रेमदास, महंत जयेंद्र मुनि, महंत दामोदर शरण दास, स्वामी रविदेव शास्त्री, स्वामी हरिहरानंद, स्वामी वेदानंद, स्वामी दिव्यानंद, महंत दिनेश दास, महंत सूरज दास, स्वामी केशवानंद, महंत सुमित दास, महंत अरूण दास, महंत शिवानंद, स्वामी चिदविलासानंद, महंत श्यामप्रकाश, स्वामी गंगादास उदासीन आदि उपस्थित रहे।