ALL political social sports other crime current religious administrative
मजदूर किसानों की समस्याओं को लेकर किसान सभा,सीटू ने दिया धरना
July 23, 2020 • Sharwan kumar jha • other

हरिद्वार। अखिल भारतीय किसान सभा तथा सेंटर ऑफ ट्रेड यूनियन ने मजदूर और किसानों की समस्याओं को लेकर भेल स्थित यूनियन कार्यालय पर विरोध स्वरूप एक दिवसीय धरना दिया। इस दौरान धरनारत लोगों ने नारेबाजी कर रोष जताया। धरना देने वालों को एक मांग पत्र प्रधानमंत्री को भेजा। धरना स्थल पर हुई आम सभा में वक्ताओं ने कहा कि बढ़ती महंगाई पर रोक लगाते हुए सार्वभौमिक राशन प्रणाली को लागू किया जाए। सभी के लिए खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित किए जाने के साथ ही किसानों को स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों के अनुसार न्यूनतम समर्थन मूल्य दिया जाए। वक्ताओं ने कहा कि सरकार की ओर से किसान की पूरी फसल की खरीद सुनिश्चित की जानी चाहिए। कोरोना महामारी के चलते कठिन दौर में राज्य और केंद्र सरकार की ओर से श्रम कानून में श्रमिक विरोधी संशोधन किए जाने के प्रस्ताव पर नाराजगी जताई। कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों के निजीकरण पर रोक लगाई जाए। गरीब किसानों, खेत मजदूरों के सार्वजनिक बैंक, सरकारी बैंक एवं निजी साहूकारों से लिए गए सभी प्रकार के ऋण माफ किए जाए। आगामी छह मार्च तक प्रति व्यक्ति को हर महीने 10 किलो अनाज निशुल्क को दिया जाना चाहिए। इनकम टैक्स की परिधि में आने वाले प्रत्येक परिवार को अगले छह महीने तक 7500 का भुगतान दिया जाना चाहिए। मनरेगा में 100 दिनों के स्थान पर 200 दिनों का काम दिया जाए। आवश्यक वस्तुओं, कृषि व्यापार, विद्युत कानून के लिए जारी अध्यादेश व प्रशासनिक आदेश वापस लिए जाने चाहिए। धरना देने वालों में आरपी जखमोला, इमरत सिंह, राजकुमार, एमपी जखमोला, उदयवीर सिंह, कयूम खान, डीपी रतूड़ी, गौरव धीमान, रोबिन आदि शामिल रहे।