ALL political social sports other crime current religious administrative
निजी स्कूल की मनमानी के खिलाफ उतरे अभिभावक, दी आन्दोलन की चेतावनी
August 19, 2020 • Sharwan kumar jha • other

हरिद्वार। निजी स्कूल की मनमानी के खिलाफ अभिभावकों ने आक्रोश जाहिर करते हुए कहा कि शासन के निर्देशों का उल्लघंन कर अनावश्यक दबाव बना रहे है। बुधवार को प्रेस क्लब में पत्रकारों से वार्ता करते हुए ज्वालापुर हरिद्वार हाईवे स्थित एक स्कूल की मनमानी का आरोप लगाया।वार्ता के दौरान सचिन चोपड़ा ने कहा कि स्कूल प्रबन्धिका अभिभावकों पर अनावश्यक रूप से दवाब बनाकर फीस वसूली के मैसेज व फोन कर रही है। फीस न देने पर आॅनलाईन शिक्षा को भी बंद करने की चेतावनी अभिभावकों को दी जा रही है। सचिन चोपड़ा ने कहा कि कोरोना काल में अभिभावक आर्थिक परेशानियों से जूझ रहे हैं लेकिन स्कूल प्रबन्धिक द्वारा बार-बार फीस मांगी जा रही है जिससे अभिभावक मानसिक व आर्थिक परेशानियों से जूझ रहे हैं। सचिन चोपड़ा ने आरोप लगाते हुए कहा कि प्रबन्धिका द्वारा फीस के साथ ही सभी तरह के चार्ज लगाकर अधिक फीस अभिभावकों से वसूलने का काम किया जा रहा है। शासन आदेशों का उल्लंघन कर स्कूल फीस लेने से बाज नहीं आ रहा है जबकि अभिभावक कोरोना काल में आॅनलाइन शिक्षा पर अनेक खर्च कर रहे हैं। उसके बावजूद भी अध्यापिकाओं द्वारा फीस वसूलने के फोन लगातार अभिभावकों को किये जा रहे हैं। शिक्षा अधिकारी को भी इस संदर्भ में शिकायत करने के बावजूद भी समस्या का कोई निस्तारण अभी तक नहीं किया गया। अभिभावक विकास चैहान ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर शिक्षा का बाजारीकरण किया गया तो स्कूल के खिलाफ चरणबद्ध तरीके से अभिभावक आन्दोलन चलाने को मजबूर होंगे। गौरव कपूर, प्रवेश निम, अनभुव गर्ग, चिराग मिश्रा, मनीष चावला ने भी स्कूल प्रबन्धिका द्वारा दवाब बनाकर फीस वसूलने पर नाराजगी जतायी और कहा कि आॅनलाइन शिक्षा को बंद करने जैसे फरमान अध्यापिकाओं द्वारा दिया जाना सरासर गलत है। अभिभावकों के समर्थन में उतरे मेयर प्रतिनिधि संगम शर्मा ने कहा कि नियमों पर ताक पर रखकर निजी स्कूल मनमानी कर रहे हैं। हाईवे स्थित स्कूल प्रबन्धिका द्वारा तरह-तरह दवाब बनाकर अभिभावकों से मनमर्जी के हिसाब से स्कूल फीस वसूलना नियमों के विरूद्ध है। शिक्षा विभाग के अधिकारी मात्र नोटिस तो देते है लेकिन निजी स्कूलों की मनमानी पर किसी भी प्रकार की कोई रोक नहीं लग पा रही है। संगम शर्मा ने कहा कि निजी स्कूलों की मनमानी किसी भी रूप से सहन नहीं की जायेगी। ऐसे स्कूलों के खिलाफ जनता को आवाज उठानी चाहिए। उन्हांेने कहा कि जल्द ही इस विषय को लेकर मुख्यमंत्री से भी गुहार लगायी जायेगी।