ALL political social sports other crime current religious administrative
निराश हताश होकर व्यक्ति अंतिम उम्मीद लिए आयुर्वेद की ओर जा रहे -डाॅ0 जोशी
September 28, 2020 • Sharwan kumar jha • other

हरिद्वार। इंटरनेशनल गुडविल सोसायटी ऑफ इंडिया हरिद्वार चैप्टर की ओर से कोविड अंतर्गत आयुर्वेद का महत्व विषय पर आयोजित वेबिनार में बतौर मुख्य वक्ता उत्तराखंड आयुर्वेद विवि के वाइस चांसलर डॉ. सुनील जोशी ने कहा कि सारा देश अंग्रेजी इलाज से निराश हताश होकर अंतिम उम्मीद लिए आयुर्वेद की ओर जा रहे है। शायद ही कोई घर होगा जहां आयुर्वेद से जुड़ा एकाध उत्पाद न हो। अनियमित जीवनशैली से परेशान व्यक्ति हर्बल उत्पाद के प्रति न सिर्फ उन्मुख हो रहे हैं बल्कि सुबह के व्यायाम में योग से लेकर खानपान और उपचार में आयुर्वेदिक दवा का इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आयुर्वेद को राष्ट्रीय चिकित्सा पद्धति घोषित किया जाए।विशिष्ट अतिथि इंटरनेशनल गुडविल सोसायटी ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष और गढ़वाल विश्वविद्यालय के कुलाधिपति डॉ. योगेंद्र नारायण ने कहा कि आयुर्वेद की जानकारी सभी बच्चों को होनी चाहिए। प्रांतीय अध्यक्ष मनोहर लाल शर्मा ने कहा कि आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति का उद्भव भारतीय संस्कृति, भारत में उत्पन्न विभिन्न वनस्पतियों के आधार पर, यहां पर प्रचलित व्यायाम क्रियाओं एवं यौगिक क्रियाओं के आधार पर किया जाता है। पतंजलि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो महावीर अग्रवाल ने कहा कि जिस प्रकार वातावरण में परिवर्तन से संसार में विभिन्न जीवाणु अथवा विषाणु पैदा होते हैं। उसी प्रकार शरीर में वात, पित्त और कफ में परिवर्तित होकर विभिन्न रोग पैदा होते हैं। सेवानिवृत्त आइएएस और सोसायटी के सेक्रेटरी डॉ. आरके भटनागर ने कहा कि कोरोना आज पूरे विश्व में चुनौती बना हुआ है। भारत भी इससे अछूता नहीं है। हालांकि अन्य देशों की तुलना में भारत में इस रोग का प्रभाव कमजोर दिख रहा है। इसका मूल कारण है भारतीय संस्कृति, भारतीय जीवनशैली। प्रांतीय उपाध्यक्ष जगदीश लाल पाहवा ने कहा कि इस महामारी से उबरने में हमारा परंपरागत चिकित्सा सिस्टम रास्ता दिखाएगा। उपाध्यक्ष इंजीनियर मधुसूदन आर्य ने कहा कि जिस व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है उस व्यक्ति पर कोरोनावायरस ज्यादा हावी होता है। वैसे भी आयुर्वेद हमारी प्राचीन चिकित्सा पद्धति है और अब सरकार भी इस ओर ध्यान देकर कोरोनावायरस महामारी से निपटने के लिए आयुर्वेद का सहारा ले रही है। दिल्ली विश्वविद्यालय की डॉ. सपना बंसल, सीपी त्रिपाठी, योगेंद्र नारायण, बृजमोहन अग्रवाल नेहा मालिक, डॉक्टर सुनील बत्रा आदि मौजूद रहे।