ओलावृष्टि से प्रभावित गांवों का पूर्व मुख्यमंत्री ने लिया जायजा
March 3, 2020 • Sharwan kumar jha

हरिद्वार। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने पथरी क्षेत्र के विभिन्न गांवों में ओलावृष्टि से बर्बाद फसलों का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने किसानों से मुलाकात कर बर्बाद हुई फसलों का उचित मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया। पथरी क्षेत्र में 25 फरवरी को हुई तेज बारिश व भारी ओलावृष्टि से मिस्सरपुर, पंजनहेड़ी, जियापोता, अजीतपुर, कटारपुर, चांदपुर, फेरुपुर, बहादरपुर जट, रानीमाजरा, शाहपुर, बादशाहपुर सहित अन्य गांव में किसानों की लगभग 90 प्रतिशत फसल तबाह हो गई थी। किसानों ने डीएम से मिलकर ओलावृष्टि को आपदा घोषित करने व बर्बाद फसलों के मुआवजे की मांग की थी। डीएम के आदेश के बाद गांव में उप जिलाधिकारी कुश्म चैहान, तहसीलदार आशीष घिल्डियाल ने क्षेत्र का मुआयना कर बर्बाद फसलों का निरीक्षण कर किसानों का हाल जाना और तत्काल लेखपाल को अपने अपने क्षेत्र में नुकसान का मुआयना कर रिपोर्ट बनाने के आदेश दिए थे। मंगलवार को पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने भी क्षेत्र में बर्बाद फसलों का जायजा लिया और किसानों की फसलों को देखा। उन्होंने किसानों का हाल जाना और ओलावृष्टि में बर्बाद फसलों का किसानों को मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया।इस दौरान सतपाल ब्रह्मचारी, अमर सिंह नायक, जगपाल सिंह सैनी, जिला पंचायत उपाध्यक्ष राव आफाक, नूतन कुमार, गुलशन अंसारी, आदित्य चैहान, अकरम, विक्रम सिंह खरोला, धर्मेन्द्र चैहान, हनीफ अंसारी, डॉ. नूर अली, मुस्तफा अंसारी, इरशाद अली, तमरेज, साधु राम चैहान आदि उपस्थित रहे।