ALL political social sports other crime current
परिवहन सेवा बंद होने से हजारों यात्री फंसे,वापसी के लिए कर रहे अनुमति का इंतजार
March 23, 2020 • Sharwan kumar jha

हरिद्वार। तीर्थनगरी घूमने आये बड़ी संख्या में यात्री जहां तहां फंस गये है,आवागमन बंद होने से यात्रियों को यहां रहने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। उत्तराखंड में लॉकडाउन होने से तीर्थनगरी में बाहरी राज्यों से आये हजारों यात्री फंस गए हैं। फंस गये यात्रियों को खाने तक के लाले पड़ गए हैं। उधर होटल और धर्मशाला वाले यात्रियों को जाने को बोल रहे हैं। शहर में बाहरी राज्यों से आए लोगों के लिए कोई भी व्यवस्था नजर नहीं आ ही है। धर्मनगरी में हजारों लोग कर्मकांड और गंगा स्नान के इरादे से बीते शनिवार को हरिद्वार पहुंचे थे। रविवार को जनता कर्फ्यू और फिर लॉकडाउन होने के बाद हरिद्वार में हजारों लोग फंसे रह गए हैं। शासन-प्रशासन की ओर से कोई व्यवस्था नहीं है। जो इन यात्रियों को उनके घरों तक पहुंचाया जा सके। अपने प्रदेश के यात्रियों को घर भेजने की व्यवस्था तो की गई है, लेकिन हरिद्वार में बाहर के यात्रियों के लिए कोई व्यवस्था नहीं है। सोमवार को कई सौ यात्री पुलिस के पास यह अनुमति लेने आए कि उनको घर जाने दिया जाए। पुलिस ने इस तरह की किसी भी अनुमति देने से इनकार कर दिया। अस्थियां प्रवाहित करने हरिद्वार पहुंचे यात्री भी सोमवार को भटकते नजर आए। जम्मू कश्मीर से एक यात्री नगर कोतवाली पहुंचे। जहां उन्होंने जम्मू कश्मीर तक जाने की अनुमति मांगी। भूपतवाला की धर्मशाला में 150 से अधिक गुजरात के यात्री फंसे हैं। श्रवणनाथ नगर में 60 यात्रियों का जत्था फंसा है। कई होटलों में इसी तरह अहमदाबाद के यात्री फंसे हुए हैं। करीब 50 से अधिक लोग पुलिस से अनुमति मांगने पहुंचे। लोगों के खाने तक की व्यवस्था नहीं हो पा रही है। यात्री अपने साथ दो तीन दिन का ही इंतजाम कर हरिद्वार पहुंचे हैं। ऐसे में उनके रुपये भी खत्म हो रहे हैं।