ALL political social sports other crime current
पूर्व कुलपति, प्रो. (डॉ.) डी. के. माहेश्वरी को “विज्ञान विभूति” सम्मान
February 27, 2020 • Sharwan kumar jha

हरिद्वार। गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति, प्रो. (डॉ.) डी. के. माहेश्वरी को उत्तराखंड विज्ञान एंव प्रौद्योगिकी परिषद (यूकोस्ट), देहरादून, द्वारा विज्ञान के क्षेत्र में राज्य सरकार द्वारा दिया जाने वाला सर्वोच्च पुरस्कार, “विज्ञान विभूति” मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा सम्मानित किया गया है। यह पुरस्कार प्रत्येक वर्ष विशेष व्यक्तियों को दिया जाता है यह पुरस्कार विज्ञान एंव प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में बहुमूल्य योगदान के लिये दिया जाता है इससे पहले उन्हें कई पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। प्रो. माहेश्वरी, अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कई वैज्ञानिक समितियों, विभिन्न शैक्षणिक और प्रशासनिक समितियों के पैनल के एक सक्रिय सदस्य हैं। हाल ही में उन्हें आजीवन उपलब्धि पुरस्कार भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय लखनऊ से सम्मानित किया गया है वह जर्नल ऑफ इंडियन बॉटनिकल सोसाइटी (1999-2002) के संपादक भी रहे है और इससे पूर्व ‘‘प्रोव वाई.एस. मूर्ति पदक ”और भारतीय बॉटनिकल सोसायटी का बीरबल साहनी पुरस्कार’ वर्ष 1992 और 2018 में, उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया जा चुका है। प्रो. माहेश्वरी के लगभग 165 शोध पत्र और प्रमुख पीयर समीक्षा पत्रिकाओं में समीक्षा लेख प्रकाशित हो चुके हैं। इनकी अगुआई में 45 उम्मीदवारों को डॉक्टरेट (पीएचडी) की उपाधि से सम्मानित किया जा चुका है । प्रो. डी. के. माहेश्वरी, बैंगलोर के राष्ट्रीय प्रत्यायन और मूल्यांकन परिषद की पीयर टीम के सदस्य सह-समन्वयक हैं। उन्होंने माइक्रोबियल टाइप कल्चर कलेक्शन, चंडीगढ़, भारत में रायजोबीयम के चार उपभेदों और जापान के सूक्ष्मजीव का संग्रह, वाको में सिनोरिजोबियम के दो उपभेद जमा किए हैं। उनके दो पेटेंट हाल ही में भारतीय पेटेंट कार्यालय द्वारा प्रकाशित किए गए हैं। पहला पेटेंट‘‘ रोग प्रबंधन के लिए बीज का लेप और उसके बाद उर्वरकों की मात्रा को फसलों में कम करने तथा बायोफर्टीलाइजर का उपयोग करने के लिए पेटेंट ‘‘ और दूसरा ‘‘औषधीय पौधे की सक्रिय विकास और उपज को बढ़ाने के लिए जैव-इनोकुलेंट कंसोर्टियम बनाने की विधि। उन्होंने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रकाशन गृहों से कई पुस्तकें प्रकाशित की हैं। वर्तमान में प्रोफेसर महेश्वरी वर्तमान में प्रोफेसर माहेश्वरी विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की बुनियादी अनुसंधान फेलोशिप में काम कर रहें हैं। सर्वोच्च पुरस्कार, विज्ञान विभूति प्राप्त होने पर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो रूपकिशोर शास्त्री, कुलसचिव प्रो दिनेश भट्ट एवं गुरुकुल परिवार के सभी सदस्यों ने शुभकामनाए दी।