ALL political social sports other crime current religious administrative
प्राॅपट्री डीलर से रंगदारी मांगने के मामले में एक और गिरफ्रतार
September 28, 2020 • Sharwan kumar jha • crime

हरिद्वार। ज्वालापुर के प्रॉपर्टी डीलर मोनू त्यागी से एक करोड़ की रंगदारी मांगने में अल्मोड़ा जेल में बंद कलीम के साथ ही पौड़ी जेल में बंद नरेंद्र वाल्मीकि की भूमिका सामने आने पर पुलिस अब उसे नामजद करने की तैयारी में है। वहीं, पुलिस ने सोमवार को नरेंद्र वाल्मीकि के एक और गुर्गे को गिरफ्तार कर लिया। मामले में अभी तक सात आरोपित गिरफ्तार हो चुके हैं, जिनमें शूटर सहित पांच बदमाशों को जेल से भागने के बाद दोबारा पकड़ा गया है।सात सितंबर को आरएसएस से जुड़े प्रॉपर्टी डीलर मोनू त्यागी के आर्यनगर स्थित घर के बाहर बदमाशों ने फायरिग की थी। 13 सितंबर को अल्मोड़ा जेल में बंद कलीम ने मोनू त्यागी से एक करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी थी। मामले का पर्दाफाश करते हुए पुलिस ने कलीम और नरेंद्र वाल्मीकि के गुर्गे रजत सती, शुभम पंवार, नीशू उर्फ बिजली, सागर चैहान, निशांत, बीनू त्यागी को गिरफ्तार किया था। रविवार को गिरफ्तार हुए बीनू त्यागी के बयान के आधार पर सोमवार को पुलिस ने गुलशन त्यागी निवासी तांशीपुर को गिरफ्तार कर लिया है। गुलशन त्यागी ने पुलिस को पूछताछ में बताया है कि पूरे प्रकरण में पौड़ी जेल में बंद बदमाश नरेंद्र वाल्मीकि भी शामिल था और नरेंद्र ने कलीम के साथ मिलकर एक करोड़ की रंगदारी मांगने की साजिश रची थी। ज्वालापुर कोतवाल प्रवीण सिंह कोश्यारी ने बताया कि रंगदारी प्रकरण में नरेंद्र वाल्मीकि के शामिल होने के पुख्ता सुबूत मिले हैं। इसलिए उसे भी मुकदमे में नामजद किया जाएगा। कलीम और नरेंद्र वाल्मीकि को जल्द ही बी वारंट पर हरिद्वार लाकर पूछताछ की जाएगा। गिरफ्तार आरोपित गुलशन त्यागी को कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया है।