प्रशासन की सख्ती का असर,सड़कों पर नही निकले लोग,पुलिस पूरी तरह से मुस्तैद
March 26, 2020 • Sharwan kumar jha

हरिद्वार। लाॅकडाउन के चैथे दिन कमोबेश प्रशासन की सख्ती का असर तीर्थनगरी में साफ दिखाई दिया। पुलिस की सख्ती के बीच लोगों में धीरे धीरे प्रशासन की अपील का असर दिखने लगा है। यही वजह है कि प्रशासन की सख्ती का असर बृहस्पतिवार को दिखाई दिया। शहर की तमाम सड़के पूर्वान्ह 10बजे के बाद सड़के खाली दिखाई देने लगी। प्रशासन द्वारा लगातार लोगों के सामने आ रही कठिनाईयों को दूर करने का प्रयास किया जा रहा है। गत दिवस बुधवार को बेवजह सड़कों पर घूमने वाले 15 से अधिकं लोगों के खिलाफ पुलिस प्रशासन ने कार्रवाई की थी। पुलिस की इस सख्ती का चैथे दिन व्यापक असर दिखाई दिया। प्रशासन की सख्ती का असर यह हुआ कि सामान खरीदने के लिए तीन घंटे की छूट दस बजे समाप्त होने के बाद लोगों घरों से नहीं निकले। जिससे सड़कों पर पूरी तरह सन्नाटा दिखाई दिया। अलबत्ता स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी, सफाई कर्मचारी, पुलिसकर्मी और दूसरी आवश्यक सेवाओं के अंतर्गत आने वाले विभागों के कर्मचारी ही सड़कों पर दिखाई दिए। पुलिस की सख्ती के चलते लाॅकडाऊन का व्यापक असर रहा। दूसरी और लाॅकडाऊन की वजह से फंसे लोग किसी तरह घर जाने की कोशिशों में लगे हुए हैं। वाहन नहीं मिलने की वजह से लोग पैदल ही अपने गांव या शहर जाने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसे कई लोगों को शहर में भटकते हुए देखा गया। मुरादाबाद से हरिद्वार घूमने आए दो युवक बुधवार की रात को खाने की तलाश में यहां वहां भटकते रहे। युवकों का कहना है कि वे हरिद्वार घूमने आए थे। लेकिन अचानक लाॅकडाऊन हो जाने से वे यहीं फंस गए। घर जाने के लिए न तो वाहन मिल रहा है ना ही खाना। युवकों का कहना है कि बड़ी परेशानी में फंस गए हैं। कोई रास्ता नहीं सूझ रहा है। हालांकि प्रशासन की और से ऐसे लोगों को खाने के पैकेट बांटे जा रहे हैं।