ALL political social sports other crime current religious administrative
पुरोहितों का धरना 20वें दिन भी जारी, सरकार की बृद्धि शुद्धि के लिए यज्ञ
October 10, 2020 • Sharwan kumar jha • current

हरिद्वार। हरकी पैड़ी पर बह रही गंगा जल की धारा को स्केप चैनल बताने वाले शासनादेश को रद्द करने की मांग को लेकर चल तीर्थ पुरोहितों का धरना लगातार बीसवें दिन जारी रहा। शनिवार को सरकार की अनदेखी से नाराज पुरोहितों ने सरकार की बुद्धि शुद्धि के लिए हरकी पैड़ी ब्रह्मकुण्ड पर सद्बुद्धि यज्ञ किया। पंडित हरिओम जयवाल व आशीष गौतम के संयोजन में संपन्न हुए यज्ञ के दौरान पुरोहितों ने सरकार से हरकी पैड़ी व गंगा की गरिमा बहाल करने की मांग की। उमाशंकर वशिष्ठ ने कहा कि सरकार जल्द से जल्द गंगा को स्केप चैनल बताने वाले शासनादेश को रद्द करें। उन्होंने कहा कि गंगा को स्केप चैनल बताने वाला शासनादेश सनातन धर्म संस्कृति व परम्परा पर बड़ा कुठाराघात है। सौरभ सिखौला व सचिन कौशिक ने कहा कि मां गंगा की गरिमा से किए जा रहे खिलवाड़ को पुरोहित समाज कतई सहन नहीं करेगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस शासन में जारी गंगा को स्केप चैनल बताने वाला शासनादेश अब तक रद्द नहीं करने से भाजपा सरकार की मंशा पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। माँ गंगा का अपमान तीर्थ पुरोहित बर्दाश्त नहीं करेंगे। अब आश्वासन नहीं माँ गंगा के सम्मान में सरकार का निर्णय चाहिए। यदि सरकार ने जल्द निर्णय नहीं किया तो बड़े स्तर पर आंदोलन करने से भी पुरोहित समाज पीछे नहीं हटेगा। इस दौरान सेवा राम मिश्रा, अनिल कौशिक, शिवम् जयवाल, गौरी शंकर हरीतोष, सौरभ गौतम, शिवम् अधिकारी, राजीव चाकलान, सिद्धार्थ त्रिपाठी, अभिषेक वशिष्ठ सरदार, प्रदीप सरदार, प्रदीप निगारे, धीरज पचभैय्या, चन्दन जगता, बादल वशिष्ठ, अतुल  कुएपे वाले, सचिन रामचन्दके, अनुज झा, अधिर कौशिक, अनुपम जगता, शिवांश गौतम, अनमोल शर्मा, आदित्य, आकाश वशिष्ठ, नितिन कौशिक, श्याम सुंदर, बाबू लाल, अमित झा सहित बड़ी संख्या में तीर्थ पुरोहित शामिल रहे।