ALL political social sports other crime current religious administrative
राज्य की सीमाओं पर ढील देने की व्यापारियों ने की मांग
August 12, 2020 • Sharwan kumar jha • other

हरिद्वार। अंतरराष्ट्रीय महामारी कोरोना से धर्मनगरी हरिद्वार का पूर्ण रूप से व्यापार चैपट हो जाने से मायूस व चिंतित व्यापारी संगठनों के प्रतिनिधियों ने भाजपा नेता संजय चोपड़ा के नेतृत्व में बड़ी पुरानी सब्जी मंडी स्थित कार्यालय पर बैठक का आयोजन कर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से पत्र लिखकर मांग की दिल्ली प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, पंजाब इत्यादि राज्यों के तर्ज पर कोरोना से बचाव के संसाधनो व नियम शर्तों के साथ उत्तराखंड के समस्त बॉर्डर तीर्थयात्रियों व सैलानियों के लिए खोले जाएं। ताकि उत्तराखंड सहित हरिद्वार का व्यापारी अपना कारोबार पूर्व की भांति संचालित कर सकें। राज्य सरकार शीघ्र ही बॉर्डर खोलकर तीर्थयात्री व सैलानियों को धर्मनगरी हरिद्वार सहित उत्तराखंड के अन्य क्षेत्रों में स्वतंत्र रूप से प्रवेश की अनुमति दें। इस अवसर पर संजय चोपड़ा ने कहा राज्य सरकार को तीर्थ नगरी हरिद्वार के व्यापारियों की वर्तमान स्थिति के दृष्टिगत शीघ्र ही उत्तराखंड के बॉर्डर तीर्थ यात्रियों व सैलानियों के लिए कोविड-19 के बचाओ के संसाधनों व नियम शर्तों के साथ प्राथमिकता के आधार पर खोले जाने चाहिए। ताकि व्यापारी अपना पूर्ण रूप से व्यापार संचालित कर सकें और अपनी जीविका में परिवार का पालन पोषण पूर्व की भांति संचालित कर सकें। उन्होंने यह भी कहा अन्य राज्यों में व्यापारियों को व्यापार करने के लिए योजनाबद्ध तरीके से प्रोत्साहित कर योजनाएं चलाई जा रही है। लेकिन उत्तराखंड के व्यापारियों के लिए कोविड-19 के दृष्टिगत विशेष रुप से कोई योजना ना चलाया जाना न्यायसंगत नहीं है। मोती बाजार व्यापार मंडल के वरिष्ठ व्यापारी नेता राजेश खुराना ने कहा यदि उत्तराखंड राज्य सरकार द्वारा शीघ्र ही यात्रियों के आगमन व व्यापार संचालित करने के लिए उचित प्रबंधन नहीं किए गए तो आने वाले समय में व्यापारी और विकट समस्याओं से गिरते चले जाएंगे। बैठक में नानकचंद साई, राजेश कुमार, संजय भारद्वाज, हितेश कोठियाल, उदय मान जैसवाल, हंसराज अरोड़ा, ऋषि खन्ना, छोटेलाल शर्मा, ओमप्रकाश, आरएस रतूड़ी, विजेंदर रावत, रवि अरोड़ा, मुकेश राणा, किशन लाल आदि शामिल रहे।