ALL political social sports other crime current religious administrative
समाजसेवी के साथ पार्षद पति के दुव्र्यवहार की गोस्वामी समाज ने की निन्दा
July 26, 2020 • Sharwan kumar jha • other

हरिद्वार। दो दिन पूर्व रानीपुर मोड़ क्षेत्र पर समाजसेवी पंडित अधीर कौशिक के साथ पार्षद पति द्वारा किए गए दुर्व्यवहार की विश्व गुरु शंकराचार्य दशनाम गोस्वामी समाज ने कड़े शब्दों में आलोचना की है। इस मौके पर विश्व गुरु शंकराचार्य दशनाम गोस्वामी समाज के प्रदेश अध्यक्ष प्रमोद गिरि ने कहा कि अखंड परशुराम अखाड़ा के अध्यक्ष समाजसेवी पंडित अधीर कौशिक हमेशा शहर व समाज की भलाई के लिए बढ़ चढ़कर कार्य करते हैं। उनके साथ पार्षद पति द्वारा किया गया दुव्र्यवहार निंदनीय है। पार्षद पति को पंडित अधीर कौशिक से क्षमा मांगनी चाहिए। प्रमोद गिरि ने कहा कि पार्षद पति ने सिर्फ पंडित अधीर कौशिक के साथ ही नहीं बल्कि सर्व ब्राह्मण समाज के साथ दुव्र्यहार किया है। यदि ऐसे में भी ब्राह्मण समाज दलगत राजनीति से ऊपर उठकर पंडित अधीर कौशिक के साथ नहीं खड़ा होता है तो आज जो व्यवहार उनके साथ हुआ है, कल प्रत्येक व्यक्ति के साथ ऐसा ही व्यवहार होगा। सबको साथ मिलकर पंडित अधीर कौशिक के पक्ष में आवाज बुलंद करनी चाहिए। जिससे प्रदेश सरकार में बैठे ब्राह्मण समाज के मंत्रीयों को भी पता चले की तीर्थ नगरी हरिद्वार में ब्राह्मणों के साथ पार्षद पति द्वारा कैसा व्यवहार किया जा रहा है। तीर्थ नगरी में ब्राह्मणों को चप्पल दिखाने वाले पार्षद पति के खिलाफ शासन प्रशासन को कानूनी कार्रवाई करनी चाहिए। प्रमोद गिरि ने कहा कि समाजहित में आवाज उठाने वालों की आवाज को दबाने के काम को गोस्वामी समाज कतई बर्दाश्त नहीं करेगा। इसके लिए धरना प्रदर्शन भी करना पडा तो गोस्वामी समाज उससे भी पीछे नहीं हटेगा। विश्व गुरु शंकराचार्य दसनाम गोस्वामी समाज के प्रदेश प्रवक्ता बलराम गिरि कड़क व कोषाध्यक्ष बादल गोस्वामी ने कहा कि सरकार समाज हित में आवाज उठाने वालों की आवाज को कुचलने का काम कर रही है। जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। प्रदेश मंत्री सन्दीप गोस्वामी व मनोज गिरि ने कहा कि पार्षद पति द्वारा समाजसेवी पंडित अधीर कौशिक के साथ की गयी अभद्रता के लिए सर्व समाज के लोगो को एकजुट होकर न्याय दिलाना चाहिए। अमित गिरि, गौरव गोस्वामी, शत्रुघ्न गिरि, दीपक गिरि, उमेश गिरि, अनिकेत गिरि, अजय गिरि आदि ने पंडित अधीर कौशिक साथ किए गए अपमानजनक व्यववहार की कड़े शब्दों में आलोचना की।