ALL political social sports other crime current religious administrative
संत रविदास की मूर्ति लगाने का प्रयास कर रहे भीम आर्मी को पुलिस ने लौटाया
June 3, 2020 • Sharwan kumar jha • crime

भीम आर्मी के प्रमुख चन्द्रशेखर को मण्डावर चेकपोस्ट पर रोका गया

हरिद्वार। चंडी घाट के निकट स्थित नमामि गंगे घाट पर संत रविदास की नई प्रतिमा लगाने आ रहे भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं को पुलिस ने बैरियर लगाकर चंडी चैक से वापस लौटा दिया। चंडी चैक से पुल पार किसी को भी जाने नहीं दिया गया। विवाद बढ़ता देख विधायक सुरेश राठौर ने चुनिंदा लोगों के साथ नमामि गंगे घाट में पहुंचकर खंडित मूर्ति को कपड़े से ढक दिया। उधर हरिद्वार आ रहे भीमआर्मी के चीफ चंद्रशेखर रावण को मंडावर चेक पोस्ट पर रोका गया। बीते दिनों नमामि गंगे घाट में रखी हुई संत रविदास की मूर्ति की गायब हो गई थी। जिसके बाद विधायक सुरेश राठौर और उनके समर्थकों ने हंगामा किया था। पुलिस को कुछ ही घंटों बाद मूर्ति गंगा किनारे मिली थी। इस मामले में पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर एक आरोपी की गिरफ्तारी भी की थी। मूर्ति को दोबारा घाट पर रख दिया गया था। लोगों का आरोप था कि मूर्ति खंडित हो चुकी है। बाद लोगों ने नई मूर्ति लगाने का आह्वान किया था। बुधवार को काफी संख्या में लोग नमामि गंगे घाट के लिए कूच कर गए। जिलेभर से कई सौ लोग हरिद्वार के लिए निकल पड़े। भनक लगते ही एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय के आदेश पर चंडी चैक पर बैरियर लगा दिये गए। भीमआर्मी के कार्यकर्ताओं को वापस लौटया गया। यहां आने वाले सभी लोगों की पुलिस ने फोटो भी खींची। कई कार्यकर्ताओं के आधार कार्ड की भी फोटो ली गई। बताया जा रहा है कि कार्यकर्ताओं को नई मूर्ति लगाने की बात कहकर बुलाया गया था। कार्यकर्ताओं का आरोप था कि संत की मूर्ति खंडित है इसी कारण उसका बदलना अति आवश्यक है, लेकिन किसी भी विभाग की अनुमति न होने के कारण पुलिस ने कार्यकर्ताओं को रोका था। विवाद बढ़ने पर ज्वालापुर विधायक सुरेश राठौर ने मौके पर पहुंचकर मूर्ति को कपड़े से ढका। वहीं भीमआर्मी के प्रदेश अध्यक्ष महक सिंह भी हरिद्वार शहर में नहीं पहुंचे। बता दें कि इससे पहले चंद्रशेखर आजाद उर्फ रावण हरिद्वार नमामि गंगे घाट पहुंचे थे। जहां उन्होंने नई प्रतिमा न लगाने देने पर धरने पर बैठने की चेतावनी दी थी। एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय ने बताया कि अनुमति न होने के कारण किसी को भी नमामि गंगे घाट में नहीं जाने दिया गया था। एसओ श्यामपुर दीपक कठैत ने बताया कि मूर्ति को कपड़े से ढका गया है।