ALL political social sports other crime current religious administrative
शासन का आदेश नही मानने वाले स्कूलों की मान्यता रदद् करने की मांग
May 4, 2020 • Sharwan kumar jha • other

हरिद्वार। महानगर व्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष व सामाजिक कार्यकर्ता सुनील सेठी ने सरकार से शासन के आदेशों उल्लंघन कर रहे निजी स्कूलों की मान्यता समाप्त करने की मांग की है। शिक्षा सचिव को भेजे पत्र में सुनील सेठी ने कहा है कि कुछ निजी स्कूल हाल ही में जारी शासन के आदेशो का उलंघन कर रहें है। उन्होंने कहा कि अभिवावक मांग कर रहे हैं कि 3 माह की फीस माफ की जाए। परंतु शिक्षा मंत्री द्वारा सिर्फ ट्यूशन फीस लेने का ओर एनसीईआरटी की पुस्तकें लगाने का शासनादेश दो दिन पूर्व जारी कियाहै। उसके बावजूद कुछ निजी स्कूलों द्वारा अन्य शुल्कों के साथ फीस जमा कराने के मैसेज अभिवावकों को भेजे जा रहे हैं। उसके साथ साथ एनसीईआरटी की जगह महंगे पब्लिकेशन की पुस्तकों को भी खरीदने का दवाब बनाया जा रहा है और चिन्हित दुकान से ही किताबें खरीदने को मजबूर किया जा रहा है। जिससे अभिवावकों में रोष है। क्योकि सरकारी कर्मचारियों को छोड़कर अन्य अभिवावक आर्थिक रूप से टूट चुके है तथा इस समय फीस देने की स्थिति में नही हैं। अभिभावक चाहते हैं कि कि स्कूल बंद होने की दशा में तीन माह की फीस माफ की जाए। लेकिन अभिभावकों की मांग के विपरीत आये शासन के आदेश को भी निजी स्कूल मानने को तैयार नही हैं। शिक्षा सचिव को ऐसे स्कूलो की जांच करानी चाहिए और मान्यता समाप्त करने की कार्यवाही करनी चाहिए।