ALL political social sports other crime current religious administrative
शहीद भारतीय सैनिकों के स्वजनों को एक-एक करोड़ देने की मांग
June 17, 2020 • Sharwan kumar jha • other

हरिद्वार। तीर्थनगरी में जारी संाकेतिक किसान महाकुंभ में भारतीय किसान यूनियन (टिकैत गुट) ने सरकार से चीन सीमा पर हुए शहीद भारतीय सैनिकों के स्वजनों को एक-एक करोड़ देने की मांग की है। यूनियन ने राष्ट्रीय प्रवक्ता चैधरी राकेश टिकैत की मौजूदगी में शहीद जवानों को भावभीनी श्रद्धांजलि दी। किसान चिंतन शिविर के दूसरे दिन किसान नेताओं ने विभिन्न समस्याओं पर चर्चा की। गुरुवार को चिंतन शिविर के तीसरे दिन किसान अपनी मांगों को लेकर आंदोलन की रणनीति तय करेंगे। सिटी मजिस्ट्रेट के माध्यम से प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को किसानों की समस्याओं को लेकर ज्ञापन भेजेंगे। वीआईपी घाट में चल रहे भारतीय किसान यूनियन टिकैत गुट के चिंतन शिविर के दूसरे दिन वक्ताओं ने कहा कि सरकार ने किसानों से जितने वायदे किए थे उनमें से एक भी पूरा नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि किसानों को पेंशन, बीपीएल परिवारों को पक्के मकान दिलाने की दिशा में कोई काम नहीं हुआ है। किसानों की तरफ कोई भी ध्यान देने को तैयार नहीं है। लॉक डाउन में किसानों की कमर पूरी तरह से टूट चुकी है। केंद्र सरकार जुमलों की सरकार साबित हुई है। गढ़वाल मंडल के अध्यक्ष संजय चैधरी ने कहा कि आज गुरुवार को सिटी मजिस्ट्रेट के माध्यम से प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा जाएगा। इस दौरान चैधरी रवि कुमार, विजय कुमार शास्त्री, राममूर्ति, धर्मेंद्र, बालेंदर, अश्वनी प्रधान, अभिषेक शर्मा, अजय प्रधान, अजीत राठी, अरविंद राठी, आदि शामिल रहे। किसानों को खेती करने के लिए विदेशों की तर्ज पर सब्सिडी दी जाए। डीजल पर छूट देकर उसे किसानों को 40 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से मुहैया कराया जाए। कहा कि अगर बिजली का निजीकरण किया गया तो यूनियन सड़कों पर उतरकर आंदोलन करने को मजबूर होगी। किसान महाकुंभ के दूसरे दिन राममूर्ति, धर्मेंद्र, बालेंदर, अश्वनी प्रधान, अभिषेक शर्मा, अजय प्रधान, अजीत राठी, अरविद राठी आदि मौजूद रहे।