स्वयं को कैद करना समाज और देश के हित में -मुख्य चिकित्सा अधिकारी
March 21, 2020 • Sharwan kumar jha

हरिद्वार। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0सरोज नैथानी ने कहा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए खुद को कुछ समय के लिए कैद करना ही समाज और देश के हित में है। उन्होने कहा कि विश्वव्यापी आपदा के रूप् में सामने आ रहे कोरोना वायरस को  फेलने से रोकने के लिए शासन प्रशासन के द्वारा हर जरूरी कार्य किये जा रहे है,कदम उठाये जा रहे है। इस समय जरूरत है वायरस के बढ़ने के क्रम को तोड़ने की । इसलिए इस समय हर व्यक्ति को कम से कम एक मीटर दूर ही रहना चाहिए। साथ ही भीड़ भाड़ वाले इलाके में अपने मुंह को ढंक कर रख ले। उन्होने कहा कि इस समय कोरोना वायरस के बढ़ने का तीसरा चरण चल रहा है,जो कि काफी खतरनाक है,इसे रोकना होगा। इसलिए प्रधानमंत्री ने भी जनता से खुद के घरों में दिनभर के लिए कैद रहने का आहवान किया है। यहां प्रेस क्लब में पत्रकारों से वार्ता करते हुए उन्होने कहा कि कोरोना वायरस का मामला सामने आने के बाद विश्व भर में 2लाख 69हजार से अधिक लोग संक्रमित है,जबकि 11हजार से अधिक वायरस पीड़ित की मौत हो चुकी है। बताया कि उत्तराखण्ड में 457 लोगों की जांच की गयी,जिसमें से 326 लोगों की रिर्पोट नेगेटिव आयी। बताया कि 12 मार्च से 26मार्च तक हमे ंपूरी तरह से सर्तकता बरतनी है। आगाह किया है कि स्वयं को जागरूक रखते हुए लोगों को जागरूक रहने तथा जरूरी बातों को मानने का समय है। उन्होने कहा कि इस वायरस के फैलने के चक्र को तोड़ना समाज और देश के लिए जरूरी है।