ALL political social sports other crime current religious administrative
टीयूशन फीस के अलावा कोई अन्य फीस लेने पर होगी मान्यता रदद् की कारवाई
May 2, 2020 • Sharwan kumar jha • administrative

हरिद्वार। लॉकडाउन की अवधि में अगर कोई निजी स्कूल संचालक छात्र-छात्राओं के अभिभावकों से ट्यूशन फीस के अलावा कोई शुल्क या फीस जमा करने के लिए दबाव बनाता है तो उस स्कूल की मान्यता रद होने के साथ ही कार्रवाई की जाएगी। शनिवार को जिलाधिकारी सी.रविशंकर ने सीईओ और डीईओ को इसके आदेश जारी कर दिए हैं। सीईओ कार्यालय से चार सदस्य समिति गठित की गई है। समिति में प्रत्येक विकास खंड में खंड शिक्षा अधिकारी अध्यक्ष, उप शिक्षा अधिकारी सदस्य सचिव, ब्लॉक समन्वयक एवं ब्लाक स्तर पर जीआईसी, जीजीआईसी के प्रधानाचार्य और प्रधानाचार्य सदस्य हैं। वहीं जनपद के खंड एवं उप खंड शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया गया है। अभिभावकों का कहना है कि लॉकडाउन की वजह से स्कूल और सभी शिक्षण गतिविधियां पूरी तरह बंद हैं। ऐसे में ट्यूशन फीस के अतिरिक्त किसी भी प्रकार का शुल्क वसूलने का कोई औचित्य नहीं है। जिलाधिकारी ने अपने आदेश में मुख्य शिक्षा अधिकारी और जिला शिक्षा अधिकारी को सख्त निर्देश दिए हैं कि आदेश का कड़ाई से अनुपालन किया जाए। यही नहीं शिक्षा विभाग द्वारा स्कूलों को जारी आदेश के साथ स्कूल की ओर से लिखित पत्र भी कार्यालय को उपलब्ध कराया जाए। जिला शिक्षा अधिकारी ब्रहमपाल सिंह सैनी (प्रा.शि.) ने बताया कि जिलाधिकारी के आदेश पर जांच समिति बनाई गई है। जांच समिति निजी विद्यालयों के द्वारा अभिभावकों पर लॉकडाउन की अवधि में फीस जमा कराने के लिए बनाए जा रहे दबाव की जांच करेगी। अगर मामला सही पाया जाता है तो संबंधित स्कूल के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। साथ ही मान्यता रद करने की कार्रवाई भी की जा सकती है।