ALL political social sports other crime current religious administrative
वर्तमान के अंधकारों का भविष्य अध्यात्म ही है-डाॅ0 चिन्मय पण्ड्या
July 2, 2020 • Sharwan kumar jha • other

हरिद्वार। कामनवेल्थ सचिवालय के 55वें वार्षिकोत्सव के अवसर पर भारतीय संस्कृति के प्रचारक के रूप में देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या को मुख्य वक्ता के रूप में आमंत्रित किया गया था। आयोजित वेबिनार में कामनवेल्थ से जुड़े 54 देशों के उच्च स्तरीय प्रतिनिधि शामिल रहे। अपने संबोधन में प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या ने कहा कि वर्तमान के अंधकारों का भविष्य अध्यात्म है। कहा कि विश्व इस समय विषम परिस्थिति से गुजर रहा है। ऐसे में सबकी निगाहें भारत पर आकर टिक गयी है। सभी ने भारत की नेतृत्व क्षमता एवं कौशल पर विश्वास जताया है। उन्होंने कहा कि आज मनुष्य जगत की आवश्यकता है कि भारतीय संस्कृति, वसुधैव कुटुंबकम के भाव को शिरोधार्य करें और कॉमनवेल्थ जैसे विस्तृत तथा सौहार्द्रपूर्ण समूह में आध्यात्मिक चिंतन का संचार हो और प्रत्येक राष्ट्र अपने को एक दूसरे से साहचर्य स्थापित हों। प्रतिकुलपति ने कहा कि विषम परिस्थितियाँ हमारे भीतर भय और हताशा नहीं ला सकती, बल्कि यह परिस्थिति हमारे लिए समय की मांग है कि हम कुछ कर गुजरे। इस वेबिनार को फ्रेंड्ज आफ कॉमनवेल्थ नामक एक संस्था ने आयोजित किया था। जिसमें मुख्य वक्ता के रूप में देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति डॉ. चिन्मय पण्ड्या के अतिरिक्त कॉमनवेल्थ की प्रमुख सचिव बैरॉनेस पैट्रिसिया स्कॉट्लैड को आमंत्रित किया गया था। कॉमनवेल्थ विश्व के चुनींदा 54 देशों का एक समूह है। इस समूह में भारत का एक विशिष्ट स्थान है।